माइग्रेन दर्द के कारण और इसके लक्षण और इसके घरेलू उपाए (Causes and symptoms of migraine pain and its home remedies)

527
chronic silent migraine

सिरदर्द एक बहुत आम समस्या यह हर किसी को कभी भी हो जाती हैं। लेकिन यही समस्या ज़्यादा बढ़  जाए और कही दिनों तक बनी रहे तो यह माइग्रेन हो सकती हैं। इसमे सिरदर्द बहुत तेज़ और  बर्दाश नहीं  होता हैं।

जो बर्दाश्त  करना बहुत मुश्किल होता हैं।

❍ माइग्रेन के दर्द का कारण 

माइग्रेन का दर्द कही घंटे से ले कर कही दिनों तक बना रह सकता हैं। यह एक न्यूपोलॉजिकल समस्या हैं। माइग्रेन मे खून का संचार बहुत तेज़ी से  सिर होने लगता हैं। इसी से माइग्रेन होता हैं।  जो सिरदर्द का कारण  बनता हैं।

माइग्रेन का दर्द  सिर के दायें  और कभी सिरे के बायें हिस्से मैं होता हैं। माइग्रे  कहते हैं की गर्मी मे मानसिक तनाव और कम नींद के कारण पुरषो से ज़्यादा महिलाये के अंदर होता है। इस रोग मैं सबसे बड़ी समस्या हैं की इसका दर्द कभी भी उठ जाता हैं और इतना तेज होता हैं की बर्दाश्त नहीं होता हैं।

❍ माइग्रेन के लक्षण 

1. जब भी माइग्रेन का दर्द होता हैं तो सिर से लेकर आँखों मे दर्द होता हैं और दर्द के कारण उलटी आने को होती हैं।
.2. सिर हमेशा की फड़फड़ता ही रहता हैं।
3. इस दर्द मे नींद कभी भी अच्छे से नहीं आती हैं।
4. दिन भर हमेशा बहुत सी उबासियाँ आना।
5 . माइग्रेन पीड़ित लोगो को सवेदना की कमी होना और सिर मे सुई जैसे चुभाना होता है।
6. माइग्रेन मे हमेशा इंसान को मूड बड़ी जल्दी बदल जाता हैं।  कभी खुश तो कभी अपने आप दुखी सा हो जाता हैं।
7. बार उसका पेशाब करने जाना।
8. सुबह सुबह उठते ही सिर मे दर्द होना।
9. ज़िन्दगी मे बहुत सारा तनाव होना ।
10.  कैफीन का बहुत ज़्यादा इस्तेमाल करना।
11. आस पास वातावरण मे बदलाव।
12. शराब ,तम्बाकू का ज़्यादा सेवन करना।

❍ इसके उपाए 

हमेशा आप पूरी नीद  अवश्य ले  सही समय पर सोये और सही समय पर ही उठे। दिन कम, कम से थोड़ी बहुत वर्जिश  किया  करे या फिर वर्जिश किया करे। खाना हमेशा सही मात्रा मे बिलकुल सही समय पर ही खाया करे।

❍ घरेलू उपाए 

1. रोज़ सुबह उठ कर बादाम जरूर खाया करे।
2. सुबह शाम अंगूर का रस पिया करे।
3. माथे पर निम्भू के छिलके का पेस्ट बना कर कपड़े मैं  बंधे और सिर पर लपेट  ले।
4. गाजर का रस और पालक का रास मिला कर पिए।
5. गाये का शुद देशो घी की थोड़ी बूंदे  रुई पर टपका कर सूँघे।
6. अपने खाने में हरी सब्जिया सब से ज़्यादा खाये।

❍ जरुरी बात 

“अगर आप को माइग्रेन हैं तो पहले डॉक्टर को दिखाए और उनके कहने पर ही यह घेरलू नुकसे अपनाये क्योकि हमे  कभी भी खुद डॉक्टर नहीं बनना चाहिए क्योकि हमारे लिए यह खतरनाक  सकता हैं।”

❖ और पढ़ें:


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here