आख़िर कौन से बिज़नेस को खोलने के लिए सरकार दे रही आपको 2.50 लाख रुपये

506
Jan Aushadhi Kendra

Jan Aushadhi Kendra in hindi: यदि आप लम्बे समय से कोई नया बिज़नेस या व्यापार शुरू करने की योजना बना रहे है लेकिन पैसों की कमी की वजह से असमर्थ महसूस कर रहे है तो यह खबर आपके लिए ही है। मोदी सरकार ने आम आदमी पर बढ़ते दवा के खर्च को रोकने के लिए साल 2015 में प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि परियोजना (Jan Aushadhi Kendra) की शुरुआत की थी। इस योजना का मुख्य उद्देश्य देश के दूरदराज इलाकों तक लोगों को सस्ती दवाइयां मुहैया कराना है।

क्या है जन औषधि केंद्रों (Jan Aushadhi Kendra)?

जेनरिक दवाएं 90 फीसदी तक जन औषधि केंद्रों पर (Jan Aushadhi Kendra) सस्ती दरों पर मिलती हैं। जेनरिक दवाओं का प्रचलन बढ़ाने के लिए सरकार की तरफ से ज़ोर दिया जा रहा है। इसके लिए सरकार द्वारा लोगों को जन औषधि केंद्र खोलने के लिए अवसर भी प्रदान किये जा रहे है। मोदी सरकार 2॰50 लाख रुपये की वित्तीय मदद जन औपधि केंद्र खोलने के लिए दे रही है जिससे यह जेनरिक दवाइयाँ सबको आसानी से उपलब्ध हो सके। आप भी इस योजना का फायदा उठा सकते है ओर अच्छी कमाई कर सकते हैं। चलिए जानते है जन औषधि केंद्र खोलने की क्या हैं पूरी प्रक्रिया?

5,500 नए जन औपधि केंद्र खुल चुके हैं अब तक

अगर अब तक कि बात करे तो देश भर में कुल मिलाकर नए 5,500 जन औषधि केंद्र खोले जा चुके हैं। सरकार की तरफ से (Government) जनऔषधि केंद्रों (Jan Aushadhi Kendra) पर बिकने वाले सैनिटरी नैपकीन (Sanitary Napkin) की कीमत कम कर के 1 रुपये प्रति पैड करने की घोषणा कर दी गयी है। अभी 2॰50 रुपये इसकी कीमत है ओर चार पैड वाले पैकेट की कीमत 10 रुपये है जिसका आज से दाम 4 रुपये होगा।

औषधि केंद्र खोलने के लिए कोई भी व्यक्ति या कारोबारी, गैर सरकारी संगठन, अस्पताल,  डॉक्टर, फार्मासिस्ट और मेडिकल प्रैक्टिशनर PMJAY के तहत आवेदन कर सकता है। PMJAY के तहत SC, ST एवं दिव्यांग आवेदकों को औषधि केंद्र खोलने के लिए 50,000 रुपये मूल्य तक की दवा एडवांस में प्रदान की जाती है। PMJAY के अंतर्गत यह औषधालय प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्र के नाम से खोला जाता है।

जन औषधि केंद्र के लिए इन कागजातों की पड़ेगी आपको जरुरत –

यदि आप स्वयं आवेदन करने की सोच रहे हो तो आपको आधार कार्ड (Aadhaar) और पैन कार्ड (Pan Card) की आवश्यकता होगी। जन औषधि केंद्र खोलने के लिए अगर कोई गैर सरकारी संगठन (NGO), फार्मासिस्ट, डॉक्टर, और मेडिकल प्रैक्टिशनर आवेदन करता है तो उसे आधार, पैन, संस्था बनाने का सर्टिफिकेट एवं रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट आपको देना होता है। अगर आप PMJAY के तहत औषधि केंद्र खोलना चाहते है तो इसके लिए आपके पास कम से कम 120 वर्गफीट जगह का होना जरुरी हैं।

जन औषधि केंद्र खोलने से होने वाले लाभ –

किसी दवा की प्रिंटेड कीमत पर 20% तक का मुनाफा मिलेगा।

2 लाख रुपये तक की वित्तीय मदद दी जाएगी

सरकार ने दावा किया है कि “जन औषधि केंद्र को 12 महीने की बिक्री का 10% अतिरिक्त इंसेंटिव दिया जायेगा। यह रकम हालांकि अधिकतम 10,000 रुपये हर महीने होगी।”

नक्सली प्रभावित इलाके, आदिवासी क्षेत्रों और उत्तर पूर्वी राज्यों में मिलने वाला इंसेंटिव 15% तक हो सकता है, साथ ही रुपये के संदर्भ में अधिकतम रकम 15,000 रुपये हो सकती है।

कैसे कर सकते हैं जन औषधि केंद्र के लिए आवेदन?

यदि आप जन औषधि केंद्र खोलना चाहते हैं तो इसके लिए आप पर जाकर फार्म डाउनलोड कर सकते हैं। आवेदन फार्म भर कर “ब्यूरो ऑफ फॉर्मा पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग ऑफ इंडिया (BPPI) के जनरल मैनेजर (A&F) के नाम पर भेजना होगा। ब्यूरो ऑफ फॉर्मा पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग ऑफ इंडिया के एड्रेस को आप जन औषधि की वेबसाइट से प्राप्त कर सकते हो जहाँ पर अन्य जानकारियां भी उपलब्ध है। यदि आप ऑफलाइन फार्म नहीं भरना चाहते है तो ऑनलाइन भी आप अप्लाई कर सकते हैं।

कितना फायदा देगा आपको जन औषधि केंद्र?

जन औषधि केंद्र द्वारा जेनेरिक दवाओं की बिक्री पर 20 फीसदी मार्जिन मिलने के अलावा हर महीने की बिक्री पर अलग से 15 फीसदी इंसेंटिव प्रदान किया जाता हैं। यहां मिलने वाले इंसेंटिव की अधिकतम सीमा 10 हजार रुपये प्रति माह तक होगी। सरकार की इस योजना के अनुसार, इंसेंटिव तब तक दिया जाएगा जब तक की  2॰50 लाख रुपये पूरे नहीं हो जाते हैं (Jan Aushadhi Kendra)। जन औषधि केंद्र को खोलने में भी कुल मिलकर 2॰5 लाख रुपये का खर्च आता है और इस प्रकार यह सारा खर्चा सरकार खुद उठाती हैं।

हमने आपको बताया कि नए व्यापार की चाह रखने वालों के लिए सरकार ना सिर्फ अर्थिक सहायता उपलब्ध करा रही है बल्कि आपको उसे सुचारु रूप से चलाने के लिए सारी सामग्री भी प्रदान करती हैं। जन औषधि केंद्र एक ऐसी योजना है जिसके द्वारा आप समाज के उत्थान में ना सिर्फ अपना योगदान देंगे बल्कि काफी मुनाफा भी कमा पाएंगे तो देर किस बात कि आज ही इस योजना का लाभ उठाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here